Swatantrata Diwas par shayari। स्वतंत्रता दिवस पर शायरी। 15 August par Shayari।

कई वर्षों तक अंग्रेजों की गुलामी करने के बाद हमारा देश 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ था। आज़ादी के लिए हुए संघर्ष को कोई भूल नहीं सकता। इसलिए आज़ादी के बाद हर वर्ष हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मानते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के दिन सभी स्कूलों और सरकारी कार्यालयों में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है। स्वतंत्रता दिवस कुछ ही दिन दूर है। यह दिन हर साल 15 अगस्त को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है।

भारतीय सभी स्वतंत्रता सेनानियों और नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करते है जो भारत की आजादी के लिए लड़ें। भारत के इस 74वाँ स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हम आपके साथ Swatantrata Diwas par shayari शेयर कर रहे है जिनका इस्तेमाल आप अपने प्रियजनों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई देने के लिए कर सकते हैं।

15 अगस्त को सभी एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं। अगर आप भी अपने दोस्तों को Swatantrata Diwas par shayari की सुभकामनाएं भेजना चाहते हैं तो इस पोस्ट के माध्यम से आप 15 अगस्त को भेजे जाने वाले मैसेज, कविताएं और शायरी प्राप्त कर सकते हैं।

Swatantrata Diwas par shayari

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
वतन पर जो भी फिदा होगा, अमर वो हर नौजवान होगा,
रहेगी जब तक दुनिया ये, अफसाना उसका बयाँ होगा…!
vatan par jo bhi phida hoga, amar vo har naujavaan hoga,
rahegee jab tak duniya ye, aphasaana usaka bayaan hoga…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुसाशन का डंडा फिर घूमाते है…!
सुनहरा रंग है गणतंत्र स्वतंत्रता का,
शहीदों के लहू से ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…!
Swatantra diwas par shayari
15 August Shayari
chalo phir se khud ko jagaate hai,
anusaashan ka danda phir ghoomaate hai…!
sunahara rang hai ganatantr svatantrata ka,
shaheedon ke lahoo se aise shaheedon ko ham sab sar jhukaate hai…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
आओ झुक कर सलाम करे उन्हें,
जिनकी ज़िन्दगी में ये मुकाम आया है…!
किस कदर खुशनसीब है वो लोग,
जिनका लहू भारत देश के काम आया है…!
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनायें!!!
aao jhuk kar salaam kare unhen,
jinakee zindagee mein ye mukaam aaya hai…!
kis kadar khushanaseeb hai vo log,
jinaka lahoo bhaarat desh ke kaam aaya hai…!
svatantrata divas kee haardik shubh kaamanaayen!!!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं…!!!
जय हिन्द, जय भारत!!!
de salaamee is tirange ko
jis se teree shaan hain,
sar hamesha ooncha rakhana isaka
jab tak dil mein jaan hain…!!!
jay hind, jay bhaarat!!!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

Shayari swatantra diwas par

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान,
इस दिन के लिए जो हुए थे हंसकर कुर्बान…!
आज़ादी की ये खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ,
की बनायेंगे देश भारत को और भी महान…!
bhool na jaana bhaarat maan ke sapooton ka balidaan,
is din ke lie jo hue the hansakar kurbaan…!
aazaadee kee ye khushiyaan manaakar lo ye shapath,
kee banaayenge desh bhaarat ko aur bhee mahaan…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
जमाने भर में मिलते है आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता…!
नोटों में लिपट कर और सोने में लिपटकर मरे है कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता…!
jamaane bhar mein milate hai aashik kaee,
magar vatan se khoobasoorat koee kaphan nahin hota…!
noton mein lipat kar aur sone mein lipatakar mare hai kaee,
magar tirange se khoobasoorat koee kaphan nahin hota…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
तिरंगा हमारा शान-ए-जिंदगी,
वतन परस्ती हैं वफा-ए-जमीं…!
देश के मर मिटना काबुल है हमें,
अखंड भारत के स्वपन का जुनून हैं हमें…!
tiranga hamaara shaan-e-jindagee,
vatan parastee hain vapha-e-jameen…!
desh ke mar mitana kaabul hai hamen,
akhand bhaarat ke svapan ka junoon hain hamen…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
ये बात हवाओं को भी बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को भी जलाये रखना…!
लहू देकर जिसकी हिफाजत की हमने,
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना…!
ye baat havaon ko bhee bataaye rakhana,
raushanee hogee chiraagon ko bhee jalaaye rakhana…!
lahoo dekar jisakee hiphaajat kee hamane,
aise tirange ko sada dil mein basaaye rakhana…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

15 August ka Shayari

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
ना पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी हैं…!
हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं,
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!
na poochho zamaane ko,
kya hamaaree kahaanee hain…!
hamaaree pahachaan to sirph ye hain,
kee ham sirph hindustaanee hain…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान हैं…!
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका,
जब तक दिल में जान हैं…!
de salaamee is tirange ko,
jis se teree shaan hain…!
sar hamesha ooncha rakhana isaka,
jab tak dil mein jaan hain…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
गंगा यमुना यहाँ नर्मदा,
मंदिर मस्जिद के संग गिरजा…!
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा…!
ganga yamuna yahaan narmada,
mandir masjid ke sang giraja…!
shaanti prem kee deta shiksha,
mera bhaarat sada sarvada…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
हल्की सी धूप बरसात के बाद,
थोरी सी खुशी हर बात के बाद…!
इसी तरह मुबारक हो आप को,
जशन-ए-आज़ादी 1 दिन के बाद…!
halkee see dhoop barasaat ke baad,
thoree see khushee har baat ke baad…!
isee tarah mubaarak ho aap ko,
jashan-e-aazaadee 1 din ke baad…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

15 August par Shayari

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई,
दिल हमारे एक है एक है हमारी जान…!
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान,
जान लूटा देंगे वतन पे हो जाएँगे क़ुरबान…!
इसलिए हम कहते है मेरा देश महान.!!!
rishta hamaara aise na tod pae koee,
dil hamaare ek hai ek hai hamaaree jaan…!
hindustaan hamaara hai ham hai isakee shaan,
jaan loota denge vatan pe ho jaenge qurabaan…!
isalie ham kahate hai mera desh mahaan!!!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
मैं हिन्दू हूँ, तू मुस्लिम है,
है दोनों इंसान…!
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, और तू पढ़ ले कुरान,
इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर…!
हैं मेरा बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान!!!!!
main muslim hoon, or too hindoo hai,
hai donon insaan…!
la main teree geeta padh loon, too padh le kuraan,
is svatantrata divas ke avasar par…!
hain mera bas ek hee aramaan,
ek thaalee mein khaana khae saara hindustaan…!!!!!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद कर ले…!
जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे,
देशभक्तो के खून की वो धारा याद कर ले…!
Swatantra diwas par shayari
15 August Shayari
chalo phir se aaj vah nazaara yaad kar le,
shaheedon ke dil mein thee vo jvaala yaad kar le…!
jisame bahakar aazaadee pahunchee thee kinaare pe,
deshabhakto ke khoon kee vo dhaara yaad kar le…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

तो दोस्तों Swatantrata Diwas par shayari को अपने दोस्तों के साथ sare जरूर करें। आपके मनपसंद शायरी हम इसी तरह www.sadandlove.in वेबसाइट पर लाते रहेगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.