sad shayari about love । sad shayari for love । sad shayari love

 

sad shayari about love

तुम क्या जानोगे कि ये दिल में कितना दर्द होता हैं।
ये दिल आज भी तुमको याद करके अंदर ही अंदर रोता हैं।।

Tum kya janoge ki ye dil me kitna dard hota hai.
Ye dil aaj bhi tumko yad karke andar hi andar rota hai…

मुझे तरस आती हैं इन मासूम सी पलकों पर,
जो भीग कर भी कहती हैं मुझे रोना नहीं आता।

Mujhe Taras aati hai in Masum si palko par,
Jo bhig kar bhi kahti hai mujhe rona nahi aata.

उदास कर देती हैं हर दिन ये शाम मुझको,
लगता हैं धीरे – धीरे तुम भूल गए हो मुझको।

Udas kar deti hai har din ye sham mujhako,
Lagta hai dhire-dhire tum bhul gaye ho mujhako.

जख्म इतना गहरा है तो इजहार क्या करें,
हम खुद निशा बन गए औरों को क्या करें।
मरने के बाद भी खुली रही मेरी आंखें,
क्योंकि मेरी आंखें जो उनका इंतजार करें।।

Jakhm itna gahra hai to ijahar kya kare,
Ham khud Nisha ban gaye oro ko kya kare.
Marne ke bad bhi khuli rahi meri aakhe,
Kyoki meri aakhe jo unka intjar kare…

बिन बात के रूठने की आदत है,
तुझे अपना बनाने की चाहत है।
तू खुश रहें या ना रहें,
मुझे तो आइना जैसे टूटने की आदत है।

Bin baat ke ruthane ki aadat hai,
Tujhe apna banane ki chahat hai.
Tu khush rahe ya na rahe,
Mujhe to aaina jaise tutne ki aadat hai.

क्या हुआ जो इतना शांत से बैठे हो,
कोई बात दिल में लगा या दिल कहीं ओर लग गया।

Kya hua jo itna shant se baithe ho,
Koi baat dil me laga ya dil kahi or lag gaya.

कितना बुरा लगता हैं उस समय
जब बादल हो पर बारिश नहीं हो।
आंखें हो पर ख़्वाब ना हो,
जब कोई अपना हो के भी पास ना हो।

Kitna bura lagta hai us samay
Jab badal ho par barish nahi ho.
Aakhe ho par khvab na ho,
Jab koi apna ho ke bhi paas na ho.

हजारों – लाखों चेहरे में एक तुम थी,
जो हम तुम पर मर मिटे।
ना कमी थी इस दुनियां में चाहतों की
ओर ना चाहने वालों की।।

Hajaro-lakho chehare me ek tum thi,
Jo ham tum par mar mite.
Na kami thi is duniya me chahato ki
Or na chahane valo ki…

आदत मेरी पूरी बदल गई हैं,
वक्त काटने की।
मुझे तो हिम्मत ही नहीं होती हैं,
अपना दर्द बाटने की।।

Aadat meri puri badal gai hai,
Vakt katne ki.
Mujhe to himmat hi nahi hoti hai,
Apna dard batne ki…

दिल से रोता हूं लेकिन होठों से मुस्कुरा बैठें,
यूं तो हम किसी से वफा निभा बैठे।
वो तो मुझे एक लम्हा भी नहीं दे पाए प्यार का,
और हम उनके लिए अपनी जिंदगी लूटा बैठे।।

Dil se rota hu lekin hotho se muskura baithe,
Yu to ham kisi se vafa nibha baithe.
Vo to mujhe ek lamha bhi nahi de paye pyar ka,
Or ham unake liye apni jindagi luta baithe…

Leave a Reply

Your email address will not be published.