Sad shayari image । Sad shayari 2022 ।

Sad shayari image

एक दिन तुम भी फिर से नाराज होगी,
मेरे साथ बिताई वो लम्हा याद आएगी।
बरसों से छुपे मेरे प्यार को,
उस दिन तुमको समझ आएगी।।

Ek din tum bhi phir se naraj hogi,
Mere sath bitai vo lamha yad aayegi.
Barso se chhupe mere pyar ko,
Us din tumko samajh aayegi…

मुझे सिर्फ इतना बता दो,
मैं इंतजार करूं आपका या
आपके जैसे ही बदल जाऊ!

Mujhe sirf itna bata do,
Mai inatjar karu aapka ya
Aapke jaise hi badal jau!

सोचते रहें रात भर करवट बदल – बदल कर,
पता नहीं वो क्यों बदल गया मुझे बदल कर।

Sochate rahe rat bhar karvat badal-badal kar,
Pata nahi vo kyo badal gaya mujhe badal kar.

हाथ पकड़ कर हम तुझको रोक लेते,
अगर मुझे जरा भी तुझ पर जोर होता।
ना रोते हम तेरे लिए अगर,
जिंदगी में तेरे सिवा कोई ओर होता।।

Hath pakad kar ham tujhako rok lete,
Agar mujhe jara bhi tujh par jor hota.
Na rote ham tere liye agar,
Jindagi me tere siva koi or hota…

हर तन्हा रात में एक तेरा ही नाम याद आता है,
कभी सुबह तो कभी शाम को याद आता हैं।
जब सोचता हूं कि कर लू दोबारा मोहब्बत,
तो मुझे पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता हैं।।

Har tanha rat me ek tera hi nam yad aata hai,
Kabhi subah to kabhi sham ko yad aata hai.
Jab sochata hu ki kar lu dobara mohabbat,
To mujhe pahli mohabbat ka anjam yad aata hai…

तेरी दोस्ती ने दिया मुझे सुकून इतना,
कि तेरे बिना कोई मुझे अच्छा ना लगे।
अगर तुझे करना है बेवफाई तो इस कदर करना,
कि तेरे जाने के बाद मुझे कोई बेवफा ना लगे।।

Teri dosti ne diya mujhe sukun itna,
Ki tere bina koi mujhe achchha na lage.
Agar tujhe karna hai bewafai to is kadar karna,
Ki tere jane ke baad mujhe koi bewafa na lage…

किसी को चाहना है तो इस कदर चाहो
कि वो तुम्हे मिले या ना मिले,
लेकिन जब भी उसे प्यार मिले
तो उसे तुम याद आओ।

Kisi ko chahana hai to is kadar chaho
Ki vo tumhe mile ya na mile,
Lekin jab bhi use pyar mile
To use tum yad aao.

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने तो बहुत होगें,
लेकिन ये मेरा दर्द का वजह सिर्फ तुम हो।

Tumhari khushiyo ke thikane to bahut honge,
Lekin ye mera dard ka vajah sirf tum ho.

मुझे तो अब भी शौक हैं, उनकी बाहों में सोने को।
मोहब्बत में उजड़ कर भी हम आदत नहीं बदल पाए खुद को।।

Mujhe to ab bhi sauk hai, unki baho me sone ko.
Mohabbat me ujad kar bhi ham aadat nahi badal paye khud ko…

कभी रो के हंसे तो कभी हंस के रोए,
जब भी याद आया तो आपको भुला के रोए।
एक तेरा ही नाम था जो हमने हजारों बार लिखी,
जितना लिखने से खुश नहीं हुए उतना मिटाने से रोए।।

Kabhi ro ke hanse to kabhi hans ke roye,
Jab bhi aaye yad to aapko bhula ke roye.
Ek tera hi naam tha Jo hamne hajaro bar likhi,
Jitna likhane se khush nahi huy utna mitane se roye…

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.