Raksha Bandhan Shayari। Raksha Bandhan Shayari in Hindi। रक्षा – बंधन शायरी ।

Raksha Bandhan Shayari

 

Raksha Bandhan Shayari

अब हर भाई के हाथ पे होगा,
रंग-बिरंगे रेशम का तार…!
भाई बहन का प्यार बढ़ाने,
आया राखी का त्यौहार…!
हैप्पी राखी!

Ab Har Bhai Ke Haath Pe Hoga,
Rang-Birange Resham Ka Taar…!
Bhai-Bahen Ka Pyar Badaane,
Aaya Rakhi Ka Tyohar…!
Happy Raakhi!

भाई बहन के प्यार का बंधन,
है इस दुनिया में वरदान…!
इसके जैसा दूजा कोई न रिश्ता,
चाहें ढूंढ लो सारा जहान…!

Bhai Bahen Ke Pyar Ka Bandhan,
Hai Iss Duniya Mein Vardaan…!
Iske Jaisa Duja Koi Na Rishta,
Chaahe Dhoondh Lo Sara Jahaan…!

जब भी राखी का त्यौहार आता है,
भाई और बहन का प्यार बढ़ाता है…!
बांधती है बहना भैया को राखी,
भाई बहन की रक्षा की सौगंध खाता है…!

Jab Bhi Rakhi Ka Tyohaar Aata Hai,
Bhai Aur Bahen Ka Pyaar Badata Hai…!
Baandhti Hai Bahena Bhaiya Ko Rakhi,
Bhai Bahen Ki Raksha Ki Saugandh Khata Hai…!

दिल से देता हूँ मैं दुआ तुझको,
कभी न हो दुःख की भावना मन में…!
उदासी छू न पाए कभी भी तुझको,
खुशियों की चाँदनी छा जाये जीवन में…!

Dil Se Deta Hun Main Dua Tujhko,
Kabhi Na Ho Dukh Ki Bhawna Man Mein…!
Udaasi Chhu Na Paye Kabhi Bhi Tujhko,
Khushiyon Ki Chandni Chha Jaye Jeevan Mein…!

 

Raksha Bandhan Shayari in Hindi

मेरी प्यारी बहना,
मुझे तुझसे है कुछ कहना…!
तेरे स्नेह ने महकाया है,
मेरे जीवन का कोना कोना…!

Meri Pyari Bahena,
Mujhe Tujhse Hai Kuchh Kahna…!
Tere Sneh Ne Mehkaya Hai,
Mere Jeevan Ka Kona Kona…!

ईश्वर का आशीर्वाद रहे,
परिबार का साथ रहे…!
दुःख न आस पास रहे,
ख़ुशी हमेशा तेरे द्वार रहे…!

Ishwar Ka Aashirwad Rahe,
Paribar Ka Saath Rahe…!
Dukh Na Aas Paas Rahe,
Khushi Hamesha Tere Dwar Rahe…!

जीवन में उल्लास रहे,
दुखों से न हो सामना…!
राखी के त्यौहार पर,
तेरे भाई की यही मनोकामना…!

Jeevan Mein Ullas Rahe,
Dukhon Se Na Ho Saamna…!
Raakhi Ke Tyohaar Par,
Tere Bhai Ki Yehi ManoKamna…!

तेरा जीवन रहे रोशन,
तुझे कभी न छू पाएं ग़म…!
ख़ुशी मिले तुझे बहुत सारी
ईश्वर का आशीर्वाद रहे हरदम…!

Tera Jeevan Rahe Roshan,
Tujhe Kabhi Na Chhu Payein Gam…!
Khushi Mile Tujhe Bahut Saari,
Ishwar Ka Ashirwad rahe HarDum…!

Raksha Bandhan ke liye shayari

बहन चाहे सिर्फ प्यार दुलार,
नही मांगती बड़े उपहार…!
रिश्ता बना रहे सदियों तक,
मिले भाई को खुशियाँ हज़ार…!
राखी की ढेर सारी शुभकामनाएं!!!

Bahan chahe sirf pyar dular,
Nahi mangati bade upahar…!
Rishta bane rahe sadiyo tak,
Mile bhai ko khushiyan hajar…!
Rakhi ki dher sari shubhkamnaye!!!

आसमान पर सितारे है जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी…!
किसी की नज़र न लगे, दुनिया की हर ख़ुशी हो तेरी…!
रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है, मेरी…!
रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!!!

Aasman par sitare hai jitane, utani jindagi hai teri…!
Kisi ki najar na lage, duniyan ki har khushi ho teri…!
Raksha-Bandhan ke din bhagvan se bas yahi dua hai meri…!
Raksha-Bandhan ka hardik abhinandan!!!

आया राखी का त्यौहार,
छाई खुशियों की बहार…!
एक रेशम की डोरी से बाँधा,
एक बहन ने अपने भाई की कलाई पर प्यार…!
|| आपको रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ ||

Aaya rakhi ka tyohar,
Chhai khushiyo ki bahar…!
Ek reshm ki dori se bandha,
Ek bahan ne apane bhai ki kalai par pyar…!

उसका हुसन गया कलेजा चीर,
नयनों से छूटा एक तीर…!
वो मुस्कराई, नजदीक आई, और बोली
“राखी बंधवाले मेरे वीर”…!
|| हैप्पी रक्षाबंधन मैरे भाई ||

Usaka husn gaya kaleja chir,
Nayano se chhuta ek tir…!
Vo muskurai najdik aai, or boli
Rakhi bandhawale mere vir…!

 

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.