पहली मोहब्बत की शायरी। Pahali Mohabbat Ki Shayari। खूबसूरत मोहब्बत शायरी।

Pahali Mohabbat Ki Shayari

 

यहां, हम Pahali Mohabbat Ki Shayari हिंदी में का सबसे अच्छा संग्रह प्रस्तुत कर रहे हैं।  आप इन शायरी को अपनी फेसबुक और व्हाट्सएप ग्रुप्स पर प्यार भरी शायरी शेयर कर सकते हैं।  अपनी भावनाओं और प्यार को व्यक्त करें और Pahali Mohabbat Ki Shayari की खूबसूरत दो पंक्तियों को प्यार से भेजें जिसे आप प्यार करते हैं।

 

Khunsurat Mohabbat Shayari

 


चाहत की कोई हद नही होती, 
सारी उम्र भी बीत जाए तो…!
मोहब्बत कभी भी कम नही होती…!

 

Pahali Mohabbat Ki Shayari
Pahali Mohabbat Ki Shayari
~~~*****—–***—–****~~~

 

chaahat kee koee had nahi hotee, 
saaree umr bhee beet jae to…!
mohabbat kabhee bhee kam nahi hotee…!

कुछ  खास नही बस इतनी सी ही है  मोहब्बत मेरी,
हर रात का आखरी  खयाल और हर सुबह की पहली सोच हो तुम…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

kuchh  khaas nahi bas itanee see hee hai  mohabbat meree,
har raat ka aakharee  khayaal aur har subah kee pahalee soch ho tum…!

लिख कर तुम्हारा नाम हम पन्नों पर, 
 बडे इतमिनान से उसे फिर मोहब्बत पढ़ते हैं…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

likh kar tumhaara naam ham pannon par, 
 bade itaminaan se use phir mohabbat padhate hain…!

मिलने को तो दुनिया मे कई चेहरे मिले गए,
पर तुम से जैसी मोहब्बत की वैसे खुद से भी न कर पाये…!

 

Pahali Mohabbat Ki Shayari
Pahali Mohabbat Ki Shayari
~~~*****—–***—–****~~~

 

milane ko to duniya me kaee chehare mile gae,
par tum se jaisee mohabbat kee vaise khud se bhee na kar paaye…!

तुम्हारी हर अदा अब मोहब्बत सी लगती है,
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है…!
 जिंदगी में तो अब हरपल तेरी जरुरत लगती है!!!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

tumhaaree har ada ab mohabbat see lagatee hai,
ek pal kee judaee muddat see lagatee hai…!
 jindagee mein to ab harapal teree jarurat lagatee hai!!!

तेरी मोहब्बत में तो अजब सा नशा है, 
तभी तो हम तुमपे फ़िदा है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

teree mohabbat mein to ajab sa nasha hai, 
tabhee to ham tumape fida hai…!

Behatrin Mohabbat Shayari

 

वो इश्क़ ही क्या जिसमे हिसाब हो, मोहब्बत तो हमेशा बेहिसाब होती है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

vo ishq hee kya jisame hisaab ho, mohabbat to hamesha behisaab hotee hai…!

तजुर्बा कहता है, कि मोहब्बत से किनारा कर लूं,
 और दिल यह कहता है कि तजुर्बा दोबारा कर लूँ…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

tajurba kahata hai, ki mohabbat se kinaara kar loon,
 aur dil yah kahata hai ki tajurba dobaara kar loon…!

सिर्फ एक ही मोहब्बत की रौशनी  बाकी है,
वर्ना जिस तरफ देखो दूर तक अँधेरा है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

sirph ek hee mohabbat kee raushanee  baakee hai,
varna jis taraph dekho door tak andhera hai…!

क्या फ़र्क है दोस्ती और मोहब्बत में,
 रहते तो दोनों दिल में ही..!
 बरसों बाद मिलने पर दोस्ती सीने से लगा लेती है,
 और मोहब्बत नज़र चुरा लेती है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

kya fark hai dostee aur mohabbat mein,
 rahate to donon dil mein hee..!
 barason baad milane par dostee seene se laga letee hai,
 aur mohabbat nazar chura letee hai…!

बहते अश्कों की ज़ुबान नहीं होती,
लफ़्ज़ों में मोहब्बत बयां नही होती…!
 मिले जो प्यार तो कदर करना,
 किस्मत हर किसी पर मेहरबां नहीं होती…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

bahate ashkon kee zubaan nahin hotee,
lafzon mein mohabbat bayaan nahi hotee…!
 mile jo pyaar to kadar karana,
 kismat har kisee par meharabaan nahin hotee…!

Khamosh Mohabbat Shayari

एक रस्म मोहब्बत में भी बनानी होगी,
 छोड़ के जाए कोई भी शौक से मगर वज़ह एक दूसरे को बतानी होगी…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

ek rasm mohabbat mein bhee banaanee hogee,
 chhod ke jae koee bhee shauk se magar vazah ek doosare ko bataanee hogee…!

क्यू करते हो, तुम मुझसे इतनी खामोश मोहब्बत, 
लोग समझते हैं, कि इस बदनसीब का कोई नही…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

kyoo karate ho, tum mujhase itanee khaamosh mohabbat, 
log samajhate hain, ki is badanaseeb ka koee nahi…!

चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी,
 लोगो को सीखा देगें कि मोहब्बत ऐसे भी होती है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

chupachaap guzaar degen tere bina bhee ye zindagee,
 logo ko seekha degen ki mohabbat aise bhee hotee hai…!

तेरी मोहब्बत से लेकर तेरे अलविदा कहने तक,
मैंने तो सिर्फ तुझे ही चाहा है, तेरे सिवा कुछ नहीं चाहा…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

teree mohabbat se lekar tere alavida kahane tak,
mainne to sirph tujhe hee chaaha hai, tere siva kuchh nahin chaaha…!

आ छोडकर इस जंहा को हमदोनो कही दूर चले, 
मोहब्बत से हमारी वंहा कोई ना जले…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

aa chhodakar is janha ko hamadono kahee door chale, 
mohabbat se hamaaree vanha koee na jale…!

हम तो उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे,
 वो भी पल पल हमें आजमाते रहे…!
 जब मुझे मोहब्बत में मरने का वक्त आया,
हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

ham to ummeedon kee duniyaan basaate rahe,
 vo bhee pal pal hamen aajamaate rahe…!
 jab mujhe mohabbat mein marane ka vakt aaya,
ham mar gae aur vo muskuraate rahe…!

चलो अपनी चाहतें अब नीलाम करते हैं,
मोहब्बत का सौदा सारे आम करते है…!
तुम अपना साथ हमारे नाम कर दो,
हम अपनी ज़िन्दगी अब तुम्हारे नाम करते हैं…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

chalo apanee chaahaten ab neelaam karate hain,
mohabbat ka sauda saare aam karate hai…!
tum apana saath hamaare naam kar do,
ham apanee zindagee ab tumhaare naam karate hain…!

इस मोहब्बत की किताब के दो ही सबक याद हुए,
 कुछ तुम जैसे आबाद हुए और कुछ हम जैसे बर्बाद हुए…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

is mohabbat kee kitaab ke do hee sabak yaad hue,
 kuchh tum jaise aabaad hue aur kuchh ham jaise barbaad hue…!

Pyasi Mohabbat Shayari

 

तुम तो मोहब्बत के सौदे भी अजीब करते हो, 
बस मुस्कुरा के अपना बना लेते हो…!

 

Pahali Mohabbat Ki Shayari
Pahali Mohabbat Ki Shayari
~~~*****—–***—–****~~~

 

tum to mohabbat ke saude bhee ajeeb karate ho, 
bas muskura ke apana bana lete ho…!

दिल में एक उम्मीद बरकरार रखी हैं,
ऐ दोस्तों…. कही हमनें पढ़ लिया था कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

dil mein ek ummeed barakaraar rakhee hain,
ai doston…. kahee hamanen padh liya tha ki sachchee mohabbat lautakar aatee hai…!

मेरी हालत देखकर तो मोहब्बत भी शर्मिदा है, 
ये शख्स जो सब कुछ गवां चूका वो आज भी जिंदा है…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

meree haalat dekhakar to mohabbat bhee sharmida hai, 
ye shakhs jo sab kuchh gavaan chooka vo aaj bhee jinda hai…!

ये मेहताब चेहरा, ये मखमूर आँखें कहीं उसमें होश मेरा न खो जाए,
न देखूं तो न चैन मिले, और देखूं तो मोहब्बत हो जाए…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

ye mehataab chehara, ye makhamoor aankhen kaheen usamen hosh mera na kho jae,
na dekhoon to na chain mile, aur dekhoon to mohabbat ho jae…!

छोङ दो तन्हाई में मुझको यारों,
 मेरे साथ रहकर क्या पाओगे…?
अगर हो गयी आपको मुझसे मोहब्बत,
कभी मेरी तरह तुम भी पछताओगे…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

chhon do tanhaee mein mujhako yaaron,
 mere saath rahakar kya paoge…?
agar ho gayee aapako mujhase mohabbat,
kabhee meree tarah tum bhee pachhataoge…!

बहुत खूब सूरत है आंखें तुम्हारी,
 इन्हें बना दो अब किस्मत हमारी…!
 हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ सारी,
अगर मिल जाय यह मोहब्बत तुम्हारी…!

 

~~~*****—–***—–****~~~

 

bahut khoob soorat hai aankhen tumhaaree,
 inhen bana do ab kismat hamaaree…!
 hamen nahin chaahiye zamaane kee khushiyaan saaree,
agar mil jaay yah mohabbat tumhaaree…!

अगर आपको Pahali Mohabbat Ki Shayari पढ़कर जरा सा भी दिल पर आया है, तो इसे social media पर जरूर sare करें।   और अगर इस शायरी से आपका कुछ भी सवाल हो तो मुझे comment जरूर करें।

 

!!!धन्यवाद दोस्तों!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.