फौजी भाई की शायरी। Fauji bhai ki shayari। सेना शायरी।देश भक्ति ।

Fauji bhai ki shayari

इस जहां में मिलते हैं बहुत सारे आशिक,
लेकिन वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता।
नोटों और सोने से लिपटकर मरते हैं कई लोग,
लेकिन तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता।।

Is jahan me milate hai bahut sare aashik,
Lekin vatan se khubsurat koi sanam nahi hota.
Noton or sone se lipatkar marte hai kai log,
Lekin tirange se khubsurat koi kafan nahi hota…

मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूं,
यहां की मिट्टी का ही मैं गुणगान करता हूं।
हम डरते नहीं है अपने मौत से,
तिरंगा बने मेरा कफ़न मैं यही अरमान रखता हूं।।

Main apne desh ka hardam samman karta hu,
Yahan ki mitti ka hi main gungan karta hu.
Ham darte nahi apne maut se,
Tiranga bane mera kafan main yahi Arman rakhata hu…

कुछ नशा इस तिरंगे के आन का हैं,
तो कुछ नशा मातृ- भूमि के शान का हैं।
हम हर जगह लहराएंगे इस तिरंगे को,
नशा यह हिंदुस्तान कि शान का हैं।।

Kuchh Nasha is tirange ke aan ka hai,
To kuchh Nasha matri-bhumibke shan ka hai.
Ham har jagah lahrayegen is tirange ko,
Nasha yah hindustan ki shan ka hai…

अपनी आजादी को हरगिज मिटा सकते नहीं हम,
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं हम।
इश्क करके मरता है हर कोई अपने महबूब पर,
लेकिन इस देश की शान के लिए जीते हैं हम।।

Apni aajadi ki hargij mita sakate nahi ham,
Sar kata sakate hai lekin sar jhuka sakate nahi ham.
Ishk karke marta hai har koi apne mahbub par,
Lekin is desh ke shan ke liye jite hai ham…

वो लोग खुशनसीब हैं, जो देश के लिए कुर्बान होते हैं,
वो मर के भी देश और इस तिरंगे की शान होते हैं।

Vo log khushnashib hai,
Jo desh ke liye kurban hote hai,
Vo mar ke bhi desh or
Is tirange ki shan hote hai.

जब आंखे मेरी खुले तो धरती हिंदुस्तान कि हो,
जब आंखे मेरी बंद हो तो यादें हिंदुस्तान कि हो।
हम वतन के लिए मर भी जाए तो कोई गम नहीं,
लेकिन मरते वक्त मिट्टी हिंदुस्तान कि हो।।

Jab aankhe meri khuli to dharati Hindustan ki ho,
Jab aankhe meri band ho to yade hindustan ka ho.
Ham vatan ke liye mar bhi jaye to koi gam nahi,
Lekin marate vakt mitti hindustan ki ho…

किसी गजरे की खुशबू को हमने महकता छोड़ आए हैं,
मेरी नन्नी सी चिड़ियां को हमने चहकता छोड़ आए हैं।
मुझे अपनी छाती से लगा लेना ए भारत मां,
अपने मां के बाहों को भी हमने तरसता हुआ छोड़ आए हैं।।

Kisi gajare ki khushabo ko hamane mahkata chhod aaye hai,
Meri Nanni si chidiya ko hamane chahakata chhod aaye hai.
Mujhe chhati se laga lena ye bharat maa,
Apne maa ke baho ko bhi hamane tarasata hua chhod aaye hai…

कभी अपने वतन के लिए सोच के देख लेना,
कभी अपने मां के चरण को चूम के देख लेना।
कितना मजा आता हैं वतन के लिए मरने में,
कभी अपने मुल्क के लिए मर के देख लेना।।

Kabhi apne vatan ke liye soch ke dekh lena,
Kabhi apne maa ke charan ko chum ke dekh lena.
Kitana maja aata hai vatan ke liye marane me,
Kabhi apne mulk ke liye mar ke dekh lena…

सलामी दो इस तिरंगे की जिससे तुम्हारी शान हैं,
इसका सर हमेशा ऊंचा रखना जब तक दिल में जान हैं।

Salami do is tirange ki jisse se tumhari shan hai,
Iska sar hamesha uncha rakhana jab tak dil me jaan hai.

मुझे ना तो तन चाहिए ओर ना ही मुझे धन चाहिए,
बस अमन से भरा मुझे यह वतन चाहिए।
जब तक मैं जिंदा रहूं, इस मातृ- भूमि के लिए,
तो जब मैं मरू तो मुझे तिरंगा कफ़न चाहिए।।

Mujhe na to tan chahiye or na hi mujhe dhan chahiye,
Bas Aman se bhara mujhe yah vatan chahiye.
Jab tak main jinda rahu, is matri-bhumi ke liye,
To jab main maru to mujhe tiranga kafan chahiye…

आजादी को हम कभी कम नहीं होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी को हम कभी बदनाम नहीं होने देंगे।
जब तक बची रहेगी खून इस तन में,
तब तक हम भारत मां का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे।।

Aajadi ki ham kabhi kam nahi hone denge,
Shahido ki kurbani ko ham kabhi badnam nahi hone denge.
Jab tak bachhi rahegi khun is tan me,
Tab tak ham bharat maa ka aanchal nilam nahi hone denge…

Leave a Reply

Your email address will not be published.