how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें । how to donate body organs in india । where to donate organs in india – भारत में अंगों का दान कहां करें?

 how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें

 

how to donate organs before death in india :- इस लेख में अंग दान तथा भारत में उससे संबंधित विभिन्न समस्याओं पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं। इसलिए आप यह आर्टिकल how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें पढ़कर जान सकते हैं।

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

Read also :- भारत में अंगों का दान कैसे करें

 

Read also :- अंग दान करने कि पूरी प्रक्रिया

 

Read also :- Donate organs after death india

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

-: Table of contents :-

 

    how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें

 

    how to donate body organs in india – भारत में शरीर के अंगों का दान कैसे करें

 

where to donate organs in india – भारत में अंगों का दान कहां करें

 

जीवित रहते हुए दान किए जाने वाले अंग

 

  Conclusion

 

how to donate organs before death in india - भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें
how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें

how to donate organs before death in india :- वह प्रक्रिया जिसके द्वारा जैविक ऊतकों या अंगों को एक मृत या जीवित व्यक्ति से प्राप्त करके या निकालकर, उन्हें किसी दूसरे प्राप्तकर्ता के शरीर में जिसे इसकी आवश्यकता होती है, उसमें प्रत्यारोपित किया जाता है, तो उस प्रक्रिया को अंगदान कहते हैं। अंग या ऊतक को प्राप्त करने या प्रत्यारोपित करने की प्रक्रिया को हार्वेस्टिंग के रूप में जाना जाता है। अंगदान किसी के भी जीवन को बचा सकता है, लेकिन भारत में लोगों के बीच गलत धारणा और ज्ञान की कमी होने के कारण अंगदान का प्रतिशत उतना अधिक नहीं है, जितना कि इसे होना चाहिए। अंगदान करने वालो की कमी होने के कारण अंग प्रत्यारोपण की प्रतीक्षा करने वाले सैकड़ों लोग मर रहे हैं। निम्नलिखित कारणों से अंगों और दाताओं की प्रतीक्षा करने वाले लोगों के बीच इतना अंतर हैः

 

सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौत के मामले में नियम के अनुसार, केवल उन्हीं के अंग निकाले जा सकते हैं, जिनकी मृत्यु अस्पताल में होती है। जिसके परिणामस्वरूप मौके पर मरने वाले व्यक्ति के परिजन अंगों को दान करने में असमर्थ हैं।

एक अन्य प्रमुख कारण यह है कि बहुत से लोग अपने जीवनकाल में अपने अंगों को दान करने की इच्छा (निधन होने पर अंगों को दान करने की एक पंजीकृत इच्छा) ही नहीं करते हैं।

जागरुकता की कमी।

धार्मिक मान्यताओं के प्रति विश्वास और गलत धारणाएं भी व्यक्तियों को अंगदान करने से बाधित करती हैं।

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

how to donate body organs in india – भारत में शरीर के अंगों का दान कैसे करें

 

how to donate body organs in india :- अपने जीवनकाल में कोई भी व्यक्ति अपने अंगों को दान करने की प्रतिज्ञा कर सकता है। इसके लिए उनको दाता कार्ड प्रदान किया जाता है। अंग को दान करते समय व्यक्ति के पास दाता कार्ड होना और अपने नजदीकी परिजनों को सूचित करना अनिवार्य है।

मृत मस्तिष्क वाले मरीजों के मामले में, अंगों के दान करने के लिए अनुसरण किए जाने वाले नियमों के साथ-साथ मानव अंगों के प्रत्यारोपण अधिनियम की स्थापना की गई है। इस अधिनियम में निर्धारित प्रक्रियाओं के अतिरिक्त, कानूनी अधिकारी को अंगों को निकालने से पूर्व परिवार से सहमति तथा कोरोनर की आवश्यकता होती है। हालांकि कानूनी औपचारिकताओं वाली प्रक्रिया में मरीज को वेंटिलेटर पर जीवित रखा जाता है।

मृतक के सबसे खास परिजन उसके अंगों को दान कर सकते हैं।

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

how to donate organs before death in india - भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें
how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें

where to donate organs in india – भारत में अंगों का दान कहां करें

 

where to donate organs in india :- भारत में सभी नागरिक अस्पताल और सरकार, अर्ध सरकारी अस्पताल अंग दान स्वीकार करते हैं। मेरी सास ने मुंबई के सायन अस्पताल में अपनी आँखें और शरीर दान कर दिया है और बाद में मुझे ऐसा करने के लिए बहुत से लोगों को पता है। आपको अस्पताल से संपर्क करना होगा, वे आपको अंग दान का एक घोषणा पत्र देते हैं। प्रत्येक अंग में प्रत्यारोपण के लिए स्थगित समय है। जैसे मौत के बाद आंखों को 2 घंटे के अंदर निकालना पड़ता है और किसी जरूरतमंद को ट्रांसप्लांट तक बर्फ में रखना पड़ता है। आम तौर पर अंग की प्रतीक्षा की संख्या रोगियों की जरूरत है। जैसे ही रिश्तेदार आकस्मिक अस्पताल में जरूरतमंद व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती करने के लिए कहते हैं। आंखों का एक सेट दो व्यक्तियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। तो अन्य अंगों पर। आप शरीर को दान करते हैं और वे किसी भी कार्यशील अंग का उपयोग कर सकते हैं।

 

एक बात का ध्यान रखें कि यदि आप शरीर दान कर रहे हैं या अपने रिश्तेदार को अंग दे रहे हैं तो अपने खर्च पर अस्पताल ले जाना होगा।

 

रिश्तेदारों को पता होना चाहिए कि आपने अंग दान कर दिया है। उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती करते समय घोषणा पत्र अपने साथ रखें और चिंता करने वाले चिकित्सक को डोनेशन के बारे में सूचित करें।

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

how to donate organs before death in india - भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें
how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें

 

 

जीवित रहते हुए दान किए जाने वाले अंग

 

यकृत: यकृत में पुनरुद्भवन (पुनः निर्माण) की क्षमता होती है, इस प्रकार यदि यकृत का एक हिस्सा दान कर दिया जाए, तो वह फिर से वृद्धि या उसी स्थित को प्राप्त कर लेता है।

 

गुर्दा: मनुष्य एक गुर्दे से भी जीवित रह सकता है, इसलिए दूसरे गुर्दे को दान किया जा सकता है।

 

फेफड़े: फेफड़े के एक भाग को दान किया जा सकता है। यद्यपि यह यकृत के विपरीत हैं, क्योंकि फेफड़ों में पुनरुद्भवन की क्षमता नहीं होती है।

 

अग्न्याशय: इसकी क्रियाशीलता को ध्यान में रखते हुए, अग्न्याशय का एक भाग दान किया जा सकता है।

 

आँत: दुर्लभ मामलों में दाताओं के द्वारा आँत का एक हिस्सा दान किया जा सकता है।

 

कैंसर और एचआईवी से पीड़ित व्यक्ति तथा सेप्सिस (सड़ने वाले घाव) या इंट्रावेनस (IV) दवाओं का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति सक्रिय संक्रमण के कारण, अंगों को दान नहीं कर सकते हैं। जबकि मृत शरीर से निम्न अंगों और ऊतकों को निकाला जा सकता है:

 

गुर्दा- एक प्रत्यारोपित गुर्दे के काम करने का समय लगभल नौ साल होता है।

 

यकृत- एक यकृत में पुनरुद्भवन की क्षमता होती है। इसे व्यक्ति से निकालने पर दो व्यक्तियों में प्रत्यारोपित किया जा सकता है। अतः एक यकृत का 2 व्यक्ति लाभ उठा सकते हैं।

 

हृदय

फेफड़े– एक या दोनों फेफड़ों को प्रत्यारोपित किया जा सकता है।

 

अग्न्याशय

आँत

रक्त वाहिनी

रक्त और प्लेटलेट्स

ऊतक- मौत के 24 घंटों के अन्दर इन्हें दान किया जा सकता है।

 

कॉर्निया (नेत्रपटल)– कॉर्निया को मृत्यु के 24 घंटों के अन्दर दान किया जा सकता है। यह माना जाता है कि एक मृत व्यक्ति की कॉर्निया दो अंधे लोगों के जीवन में उजाला कर सकती है।

 

हड्डियाँ

त्वचा

नसें

टेंडन

स्नायुबंधन (अस्थि-बंधन)

हृदय के वाल्व

कार्टिलेज (नरम हड्डी)

 

यद्यपि दाताओं के शरीर से निकाले गए अधिकांश अंगो को 6 से 72 घंटों के अन्दर ही प्रतिस्थापित कर देना चाहिए। जबकि कॉर्निया, त्वचा, हृदय के वाल्व, हड्डी, टेडन, अस्थि-बंधन और कार्टिलेज जैसे ऊतकों को बाद में उपयोग के लिए संरक्षित और संग्रहित किया जा सकता है।

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

 

***** how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें *****

How can I donate my organs before I die?

How can I donate my organs after death in India?

Which organs can be donated in India?

What is the process of organ donation in India?

 

Organ donation in India current status

Organ donation Statistics in India 2019

How to register for body donation in India

How to donate organs after death

Conclusion

 

 तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल how to donate organs before death in india – भारत में मृत्यु से पहले अंगों का दान कैसे करें कैसा लगा, हमें comment कर के जरूर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.