Diwangi Shayari। दीवानगी शायरी। Diwangi Shayari Hindi।

Diwangi Shayari:- हेल्लो रीडर, आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए कुछ चुनिंदे दीवानगी शायरी का एक विशेष Collection लेकर आये है।

 

अगर आप एक Couple है, तो आप अपने पार्टनर को हमारे इन खास शायरियों की मदद से रोमांटिक अंदाज में अपने प्यार का एहसास करवा सकते है। हम हमारे इस कलेक्शन में रेगुलर Diwangi Shayari जोड़ते रहेंगे।

Diwangi Shayari

 

 मेरी दीवानगी अब भी वही है, बस इज़हार का अंदाज़ अलग है,

तब बिखरे मोती की माला थी, आज बिखरे सपनो की सौगात है ।

 

***

 

दीवानगी तो हम कर बैठे हैं इश्क़ में

उनके घर जाकर अपने घर का पता पूछते हैं

 

***

 

ये शब ओ रोज़ जो इक बे-कली रक्खी हुई है

जाने किस हुस्न की दीवानगी रक्खी हुई है

***

 

Diwangi Shayari
Diwangi Shayari

 

 Diwangi Shayari Hindi

मौसम गए सुकून गया ज़िन्दगी गई

दीवानगी की आग में क्या-क्या गया न पूछ

 

***

 

दीवानगी हो अक़्ल हो, उम्मीद हो या आस

अपना वही है वक़्त पे जो काम आ गया …!!

 

***

 

अगर फना हो जाऊ तेरी चाहत में तो गुरूर न करना,

यह असर नहीं तेरे हुस्न का…. यह आलम है मेरे दीवानगी का…!

 

***

 

कभी आईने में चेहरा मेरी नज़रों से देखो,

तुम समझ जाओगे ये दीवानगी है तारी क्यूँ आख़िर…!

 

***

 

इस तरह तो और भी दीवानगी बढ़ जाएगी,

दीवानों को दीवानों से दूर रहना चाहिए !!

 

** 

 

Diwangi Shayari Hindi Me

 

मेरी दीवानगी इस कदर बढ़ गई कि

अब नजरें झुकाना मुमकिन नहीं…!

 

**

 

आए हैं जिस मक़ाम से उसका पता न पूछ,

दीवानगी सफ़र की पूछ मगर रास्ता न पूछ…!

 

***

 

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,

शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,

दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,

आज भी इंतजार है तेरे आने का…!

 

***

 

 Diwangi Shayari in Hindi

 

उतरे जो ज़िन्दगी,तेरी गहराइयों मे हम महफ़िल में रहकर भी रहे तन्हाइयों में,

हम इसे दीवानगी नही तो और क्या कहे इंसान ढूंढते रहे परछाइयों मे हम…!

 

***

 

ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी;

हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी…!

 

***

 

ख्वाब है या कोई हक़ीकत हैहै ये दीवानगी के चाहत है,

हमने जैसे के आपाको पा ही लिया,आज कुछ ऐसी दिल की हालत है…!

 

***

 

वो खतो-कलम की दीवानगी छोड़ दी मैंने

के अब जुबाँ हर वक्त ही आह उगलती है…!

 

***

 

हसरतें मचल गयी जब तुमको सोचा एक पल के लिए

सोचो दीवानगी तब क्या होगी,जब तुम मिलोगे उम्र भर के लिए…!

 

***

 

 Diwangi Ke Shayari in Hindi

ना जीने का शौक है ना मरने की तलब रखते है,

दिवाने है तेरे बस दीवानगी गजब की रखते है।

 

***

 

थौडी़ दीवानगी मै लाऊगा,थौडी़ वफा तुम ले आना,

साझे में कर लेंगे फिर से कारौबार-ए- मौहब्बत…!

 

***

 

नई मुश्किल कोई दर-पेश हर मुश्किल से आगे है,

सफ़र दीवानगी का इश्‍क़ की मंज़िल से आगे है…!

 

**

 

जुनूं मंजिल का, राहों में बचाता है भटकने से,

मेरी दीवानगी अपना ठिकाना ढूंढ लेती है !!

 

इस बहते दर्द को मत रोको ये तो सज़ा हे किसी के इंतज़ार की,

लोग इन्हें आंसू कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी हे साँवरिया के प्यार की…!

 

*** 

 

Diwangi Shayari in English

 

बंदगी में इश्क सी दीवानगी पैदा करों,

एक दम दुआओं में असर आ जाएगा

 

***

 

उनकी एक झलक पे ठहर जाती है नज़र खुदाया !

कोई हमसे पुछे दीवानगी क्या होती है…!

 

***

तुम्हारी अंजुमन से उठके दीवाने कहाँ जाते।

जो वाबसता हुए तुमसे वो अफसाने कहाँ जाते।

 

चलो अच्छा हुआ काम आ गयी दीवानगी अपनी

वरना हम ज़माने को ये समझाने कहाँ जाते…!

 

*** 

 

Diwangi Shayari for bf and gf

 

दिल की हसरत जुबां पर आने लगी,

तुमकोदेखा जिंदगी मुस्कुराने लगी…!

 

ऐसी हुई तुम से दीवानगी,

हरसूरत में तुम्हारी सूरत नज़र आने लगी…!

 

***

 

ख्वाहिश है पहुंचूं इश्क के मै उस मुकाम पर,

जब उनका सामना मिरी दीवानगी से हो!!!!!

 

***

 

अक़्ल में यूँ तो नहीं कोई कमी,

इक ज़रा दीवानगी दरकार है !

 

 

 

आशिक़ी लिखें, दीवानगी लिखें, या अपनी ख़ामोशी लिखें,

दिल के जज़्बात अब अल्फ़ाज़ नहीं बनते, आखिर आज क्या लिखें…!

 

***

 

तुझ से वाबस्तगी रहेगी अभी दिल को ये बेकली रहेगी अभी,

सर को दीवार ही नहीं मिलती सो ये दीवानगी रहेगी अभी…!

 

***

 

 Diwangi Shayari in Hindi and English

 

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहां…

कि तेरे ही क़रीब से गुज़र गए तेरे ही ख़्याल मे…!

 

***

 

उसने मेरी महोब्बत का, इस तरह तमाशा किया.

कि हम मरते है उनके प्यार मे, और वो हसते रहे मेरी दीवानगी पर…!

~~~~~*****—–***—–*****~~~~

अगर आपको यह Diwangi Shayari पसंद आया हो तो इसे sare जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.