Desh Bhakti Shayari। देश भक्ति शायरी। Desh Bhakti Shayari Hindi। देश भक्ति शायरी हिंदी।

15 अगस्त पर आप सभी भारत वासियों को www.sadandlove.in के website की तरफ से हार्दिक शुभकामनायें। स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर हम आपके लिए Desh Bhakti Shayari 
शायरी का बेस्ट कलेक्शन लेकर आये है जिसको आप नीचे पढेंगे।

15 अगस्त के लिए हुए कठोर संघर्ष को कोई नहीं भुला सकता है। आजादी की लड़ाई में न जाने कितने लोगों ने अपनी जान की आहुति दी थी उन महान पुरुषों, स्त्रियों को हम सब की तरफ से नमन है।

हमें आजादी दिलाने वालों को दिल से धन्यवाद है। उन के इस कर्ज को हम भारतीय कभी नहीं चुका पाएंगे।तो चलिए इस देश भक्ति के माहौल के लिए थोड़ी बहुत शायरियां पढ़ लिया जाए।

भारत की स्वतंत्रता दिवस का इतिहास तो सभी जानते ही है की कैसे कैसे हमारे वीर जवानो ने अपनी जान की आहुति देकर हमें आजाद किया है। उनके उपर कुछ देश भक्ति Desh Bhakti Shayari  की  शायरियाँ है, जिनको आप कॉपी करके अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सएप्प, फेसबुक पर शेयर कर सकते हैं।

 

Desh Bhakti Shayari

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
मेरे मुल्क की हिफाज़त ही मेरा फ़र्ज है,
और मेरा मुल्क ही मेरी जान है…!
इस पर कुर्बान है मेरा सब कुछ,
नही इससे बढ़कर मुझको अपनी जान है…!
Mere Mulk Ki Hifazat Hi Mera Farz Hai,
Aur Mera Mulk Hi Meri Jaan Hai…!
Is Par Kurbaan Hai Mera Sab Kuchh,
Nahi Isse Badhkar Mujhko Apani Jaan Hai…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
तीन रंग का वस्त्र नहीं, ये ध्वज देश की शान है,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान है…!
यही है गंगा, यही हैं हिमालय और यही हिन्द की जान है,
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं…!
Desh Bhakti Shayari
Desh Bhakti Shayari
Teen Rang Ka Vastr nahi, Ye Dhvaj Desh Ki Shaan Hai,
Har Bhartiy Ke Dilo Ka Svabhimaan Hai…!
Yahi Hai Ganga, Yahi Hai Himalay or Yahi Hind Ki Jaan Hai,
Aur Teen Rangon Mein Ranga Hua Ye Apna Hindustaan Hai…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
भारत को जो करना नमन छोड़ दे,
केह दो उन्हें वो मेरा वतन छोड़ दे…!
मजहब प्यारा हे जिसे भारत नहीं,
वो इस की पनाह में रहना छोड़ दे…!
जय हिन्द जय भारत!!!
Bharat Ko Jo Karna Naman Chhod De,
Keh Do Unhe Wo Mera Vatan Chhod De…!
Majhab Pyara He Jise Bharat Nahi,
Wo Iss Ki Panah Me Rehna Chhod De…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
हर वक़्त मेरी आँखों में धरती का स्वपन हो,
जब कभी मरू तो तिरंगा मेरा कफ़न हो…!
और कोई ख्वाहिश नहीं ज़िंदगी में अब,
जब कभी जनमु तो भारत मेरा वतन हो…!
Har Waqt Meri Aankho Mein Dharti Ka Swapan Ho,
Jab Kabhi Maroon To Tiranga Mera Qafan Ho…!
Aur Koyi Khwaahish Nahi Zindagi Mein Ab,
Jab Kabhi Janmu To Bharat Mera Watan Ho…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

Desh Bhakti Shayari Hindi

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
भरा नहीं जो बाहों से,
बहती जिस में रसधार नहीं…!
वो दिल नहीं है पत्थर है,
जिसमे स्वदेश का प्यार नहीं…!
Bhara Nahin Jo Bhavon Se,
Behti Jis Me Ras Dhar Nahi…!
Wo Hriday Nahin Hai Patthar Hai,
Jis Mein Swadesh Ka Pyaar Nahin…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
गूंजे कहीं पर शंख, कहीं पे अजान है,
बाइबिल है ग्रन्थ साहब है गीता का ज्ञान है…!
दुनिया में कहीं और यह मंज़र नसीब नहीं,
दिखाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है…!
Goonje Kahin Par Shankh, Kahin Pe Ajaan Hai,
Bible Hai, Granth Sahib Hai, Geeta Ka Gyan Hai…!
Duniya Mein Kahin Aur Yeh Manzar Naseeb Nahi,
Dikhaao Zamane Ko Yeh Hindustan Hai…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर,
भारत का नाम होगा सब की जुबान पर…!
ले लेंगे उसकी जान या दे देंगे अपनी जान,
कोई जो उठायेगा आँख हमारे हिंदुस्तान पर…!
Lehrayega Tiranga Ab Saare Aasmaan Par,
Bharat Ka Naam Hoga Sab Ki Jubaan Par…!
Le Lenge Uski Jaan Ya to De Denge Apni Jaan,
Koyi Jo Uthhayega Aankh Humare Hindustan Par…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
कुछ हाथ से मेरे निकल गया,
वो पलक झपक के छिप गया…!
फिर लाश बिछ गयी लाखों की,
सब पलक झपक के बदल गया…!
Kuchh Haath Se Mere Nikal Gaya,
Woh Palak Jhapak Ke Chhip Gaya…!
Fir Laash Bichh Gayi Lakhon Ki,
Sab Palak Jhapak Ke Badal Gaya…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~

Desh Bhakti Shayari Hindi Me

~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
जब रिश्ते राख में बदल गए,
इंसानियत का दिल दहल गया…!
मैं पूछ पूछ के हार गया,
क्यूँ मेरा भारत बदल गया…?
Jab Rishte Raakh Mein Badal Gaye,
Insaniyat Ka Dil Dahal Gaya…!
Main Poochh Poochh Ke Haar Gaya,
Kyon Mera Bhaarat Badal Gaya…?
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
ना पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी हैं…!
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!
Desh Bhakti Shayari
Desh Bhakti Shayari
Naa Poochho Jamane Ko,
Kya Hamari Kahani Hain…!
Hamari Pehchaan To Sirf Ye Hai
Ki Hum Sirf Hindustani Hain…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
ये नफरत बुरी है न पालो इसे,
दिलो में खलिश है निकालो इसे…!
न तेरा, न मेरा, न इसका, न उसका,
यह सब का वतन है, बचा लो इसे…!
Ye Nafrat Buri Hai Na Paalo Ise,
Dilo Mein Khalish Hai Nikalo Ise…!
Na Tera, Na Mera, Na Iska, Na Uska,
Yeh Sab Ka Watan Hai, Bacha Lo Ise…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ…!
मुझे डर नहीं है अपनी मौत से,
तिरंगा बने कफ़न मेरा, यही अरमान रखता हूँ…!
Main Apne Desh Ka Hardam Samman Karta Hun,
Yahan Ki Mitti Ka Hi Gunagaan Karta Hun…!
Mujhe Dar Nahin Hai Apani Maut Se,
Tiranga Bane Kafan Mera, Yahi Armaan Rakhta Hun…!
~~~~~—–*****—–*****—–*****—–~~~~~
Jai…  Hind…..!!!
Jai…  Bharat..!!!
Vande………………..Matram……!!!!!

Tirange par Shayari यहां क्लिक कर के पढ़ें।

15 August ke shayari यहां क्लिक कर के पढ़ें।

Desh bhakti shayari यहां क्लिक कर के पढ़ें।

Army Shayari Hindi यहां क्लिक कर के पढ़ें।

Fauji Shayari Hindi यहां क्लिक कर के पढ़ें

अगर आपको यह शायरी पसंद आया है, तो  Desh Bhakati Shayari को अपने सोशल मीडिया पर Sare जरूर करें। और इसी तरह हमारे वेबसाइट पर बने रहें। हम आपके लिए तरह – तरह के शायरी लाते रहेगें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.