2022 का भाई – बहन की शायरी । Bhai – bahan ka shayari for 2022 ।

            जिस तरह से दोनों आंखे साथ होते हैं,
             उसी तरह से भाई बहन के रिश्ते
                     भी  खास  होते हैं।



 Jis tarah se dono aakhe sath hote hai,
  Usi tarah se bhai-bahan ke rishate bhi khas hote hai.



     भाई बहन उतने ही आस पास होते हैं,
          जितनी दोनों आंखे होते हैं।



Bhai-bahan utane hi paas hote hai,
     Jitani dono aakhe hoti hai.


        कितना सुंदर, कितना प्यारा,
          ये सारा संसार हैं।
        सबसे अच्छा, सबसे सच्चा,
       ये भाई बहन का त्यौहार हैं।

                Kitna sundar, kitna pyara,
                      Ye sara sansar hai.
       Sabse achchha sabse sachcha,
    Ye bhai – bahan ka tyohaar hai.

Ramji Thakur




     किसी के घाव पर मरहम कौन लगाएगा,
           जब बहनें ही नहीं होगी,
    तो भाई के हाथों में राखी कौन बांधेगा।
    
      
      Kisi ke ghav par marham kaun lagayega,
Jab bahne hi nahi hogi,
To bhai ke hatho me Rakhi kaun bandhega.




     भाई बहन एक दूसरे से दूर भी हो,
      तो कभी प्यार कम नहीं होता है।
     जिस भाई के सर पर बहन का हाथ हो,   उसे कोई मुश्किलों में भी गम नहीं होता है।



Bhai-bahan ek dusre se dur bhi ho,
   To kabhi pyar kam nahi hota hai.
Jis bhai ke sar par bahan ka hath hota hai,
Use koi muskilo me bhi gam nahi hota hai.




    भाई और बहन का प्यार किसी दुआ से कम
                 नहीं होता, 
     दोनों चाहे कितनी भी दूर हो,
       लेकिन कोई ग़म नहीं होता।
     अक्सर दूरी में रिश्ते कम हो जाते हैं,
 लेकिन भाई और बहन का जो प्यार है कभी कम नहीं होता।



Bhai-bahan ka pyar kisi dua se bhi kam nahi hota,
Dono chahe kitni bhi dur ho,
Lekin koi gam nahi hota 
Aksar duri me rishte kam ho jate hai,
Lekin bhai-bahan ka jo pyar hai kabhi kam nahi hota.





         मेरा भैया बड़े निराले,
     करता बहुत परेशान मुझे। 
   पर करता है मुझसे प्यार भी उतना, 
  जरुरत पड़ने पर भी दे दे जान मुझे।


Mera bhaiya bade nirale,
Karta bada preshan mujhe.
Par karta mujhse pyar bhi utna,
 Jarurat padne par bhi de de jaan mujhe.




  एक बहन की सबसे ज्यादा खुशी तब होती हैं, 
जब कोई बोलता है कि तू तो अपनी भाई पर गई हैं।



Ek bahan ki sabse jyada khushi tab hoti hai,
Jab koi Bolta hai ki tu to apni bhai par gayi hai.




     जिस तरह से  कभी खुशी कभी गम ,
              होता है ये संसार।
     ऎसे ही होते हैं, भाई बहन का प्यार।

Jis tarah se kabhi Khushi kabhi gham,
Hota hai ye sansar 
Yese hi hote hai, bhai-bahan ka pyar.




       लाल गुलाल रंग से ,गूंज रहा संसार,
        सूरज की किरणे कर रही बोछार,
    चांद की चांदनी जैसा हो अपनों का प्यार,
   सबको मुबारक हो रक्षा – बंधन का त्यौहार।



Lal gulal rang se gunj raha sansar,
Suraj ki kirne kar rahi bochchhar,
Chand ki chandni jaisa ho apni ka pyar,
Sabko mubarak ho raksha Bandhan ka tyohaar.



      
          भाई बड़ा हो चाहे छोटा हो,
     उससे कोई फर्क नहीं पड़ता हैं।
 लेकिन हमेशा बहन की बॉडीगार्ड रहता हैं।



Bhai bada ho chahe chhota ho,
Usse koi farak nahi padata hai .
Lekin hamesha bahan ki bodygaurd rahta hai.




   प्रेम और विश्वास के इस बंधन को मनाओ,
      जो तुम दुआ मंगो उसे जल्दी पाओ,
    Rakhi का त्यौहार हैं भैया जल्दी से आओ,  अपनी प्यारी बहना के हाथों से माथे पर तिलक लगाओ।



Prem or visvas ke is Bandhan ko manao,
Jo tum dua mango use jaldi pao,
Rakhi ka tyohaar hai bhaiya jaldi aao,
Apni pyari bahana ke hatho se mathe par tilak lagao.





      भाई – बहन में होता है झगड़ा  
     जैसे कि कोई सुलझा न सके,
       लेकिन प्यार भी उतना ही होता है,
             जो कोई नाप न सके।



Bhai-bahan me hota hai jhagada
Jaise ki koi sulajha na sake,
Lekin pyar bhi utna hi hota hai,.jokoi nap na sake.





    माना कि भाई – बहन का कभी बनती नहीं, 
 सच तो यह है कि बहन के बिना भाई का चलती भी नहीं।


Mana ki bhai bahan ka kabhi banta nahi,
Sach to yah hai ki bahan ke bina bhai ka chalti bhi nahi .




   कैसे भूल जाऊ, भैया और भाई को। जिसको मैंने हर साल बांधा हाथ की कलाई को।
                     

Kaise bhul jau, bhaiya or bhai ko.
Jisko maine har sal bandha hath ki kalai ko.

Ramji Thakur

    

         

        रक्षा – बंधन का आया है त्यौहार,
       बहन की दुवाएं मिले भाई को हजार,
         यह अनमोल रिश्ता है अटूट,
           इसी तरह बने रहे खूब।

Raksha- Bandhan ka aaya hai tyohaar,
Bahan ki duvaye mile bhai ko hajar,
Yah anmol rishta hai atut,
Isi tarah bane rahe khub.




  है भगवान! हमारी दुवाओ का असर इतना रहे।
  मेरी बहन का जीवन हमेशा खुशियों से भरा रहे।

Hai bhagvan! Hamari duvai ka asar itna rahe.
Meri bahan ka jivan hamesha khushiyo se bhara rahe.






    प्रीत के धागों से बंधकर उमड़ रहा संसार,
      सबसे सच्चा सबसे अच्छा होता है,
           भाई – बहन का त्यौहार,
        इसी सच्चे प्यार को कहते हैं,
           रक्षा – बंधन का त्यौहार।


Prit ke dhango se bandhakar umad raha sansar,
Sabse sachcha sabse achchha hota hai,
Bhai-bahan ka tyohaar,
Isi sachche pyar ko kahte hai,
Raksha Bandhan ka tyohaar.




             साथ लड़े, साथ में झगड़े,
          फिर भी कम ना हुआ प्यार।
          भाई – बहन का प्यार बढ़ाने आया है,
            रक्षा – बंधन का त्यौहार।
                          
Sath lade sath me jhagde,
Fir bhi kam na hai pyar.
Bhai-bahan ka pyar badhane aaya hai,
Raksha Bandhan ka tyohaar.

Ramji Thakur





           बहन मांगे भाई का प्यार,
        नहीं चाहिए मुझे महंगे उपहार,
        इसी तरह बना रहे सदियों तक
          भाई – बहन का त्यौहार।


Bahan mange bhai ka pyar,
Nahi chahiye mujhe mahange uphar,
Isi tarah bana rahe sadio tak
Bhai-bahan ka tyohaar.




   चंदन का तिलक, फूलों का हार 
   August  का महीना, सावन की बहार
             सबको मुबारक हो,
      रक्षा – बंधन का त्यौहार।

Chandan ka tilak, phulo ka har,
August ka mahina, savan ki bahar,
Sabko mubarak ho,
Raksha Bandhan ka tyohaar.




कोई भी लड़का के लिए अगर कोई भी खूबसूरत लड़की होती है,
तो सिर्फ उसकी बहन होती हैं।


Koi bhi ladka ke liye agar koi bhi khubsurat ladki hoti hai,
To sirf uski bahan hoti hai।
             

इसी प्रकार और भी शायरी पढ़ने के लिए हमारे  website पर बने रहे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.